Latest News

Wednesday, 29 March 2017

एक अप्रैल से देश में नहीं बिकेंगे बीएस 3 वाहन : सुप्रीम कोर्ट - Supreme court stopping sale of bs 3 vehicles from april 1



नयी दिल्ली : देश की ऑटो कंपनियों को सुप्रीम कोर्ट से करारा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक अप्रैल से बीएस-3 वाहनों की बिक्री पर रोक के फैसले को बरकरार रखा है. लिहाजा, अब एक अप्रैल से बीएस-3 वाहन नहीं बिकेंगे. इस तरह खासकर 2-व्हीलर्स और व्यावसायिक वाहन बनाने वाली कंपनियों को सबसे ज्यादा झटका लगेगा. मंगलवार को सुनवाई पूरी होने के बाद फैसला बुधवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया था.
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कमर्शियल फायदे से ज्यादा आम लोगों की सेहत ज्यादा अहम है. एक अप्रैल से बीएस-4 लागू करने के आदेश थे. ऐसे में कंपनियों को एक अप्रैल की समयसीमा पहले ही से मालूम थी. गौरतलब है कि देश में एक अप्रैल से बीएस-4 मानक लागू करने का फैसला किया गया है. वहीं, कंपनियों ने बीएस-3 स्टॉक बेचने के लिए कोर्ट से 6-8 महीने की मोहलत मांगी थी.


मंगलवार को सुनवाई के दौरान वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने पीठ से कहा कि वाहन कंपनियों को बीएस-तीन वाहनों के स्टॉक को निकालने के लिए करीब एक साल का समय चाहिए. ज्यादातर स्टॉक सात से आठ महीने में निकल जायेगा. उन्होंने कहा कि इन वाहनों को हटाने का काम धीरे-धीरे होना चाहिए, क्योंकि वर्ष 2010 से मार्च 2017 तक 41 वाहन कंपनियों ने 13 करोड बीएस-तीन वाहनों का विनिर्माण किया है.


फिलहाल, वाहन कंपनियों के पास ऐसे लाखों वाहन स्टॉक में हैं. उन्होंने कहा कि हम प्रतिष्ठित कंपनियां हैं. हमें खलनायक के रूप में नहीं दिखाया जाना चाहिए. हम भाग नहीं रहे हैं. हम भी चाहते हैं कि हमारा वातावरण प्रदूषणमुक्त हो. हम कह रहे हैं कि हम दिशानिर्देशों का अनुपालन करेंगे. सिंघवी ने कहा कि यह प्रक्रिया धीरे-धीरे होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि एक अप्रैल, 2017 से ऐसे वाहनों के पंजीकरण पर रोक लगाना इस उद्योग पर अचानक धावा बोलने के समान होगा.
वाहन उद्योग देश का दूसरा सबसे अधिक रोजगार देने वाला और सबसे उंची दर से कर देने वाला उद्योग है. इस पर पीठ ने कहा कि वाहन कंपनियों को 2014 में ही बीएस-चार अधिसूचना के बारे में पता था और जब लोगों को 2010 से ही इसके बारे में जानकारी हो गयी थी, तो उन्हें बीएस-तीन वाहनों का उत्पादन घटाना चाहिए था. हीरो मोटोकार्प की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता केके वेणुगोपाल ने कहा कि कंपनी के पास बीएस-तीन मानक वाले 3.28 लाख दोपहिया वाहनों का स्टॉक है. इन पर रोक लगने से उसे 1500 करोड़ रुपये का नुकसान होगा.
हालांकि, बजाज ऑटो की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान ने एक अप्रैल से बीएस-तीन वाहनों के पंजीकरण पर रोक लगाने संबंधी याचिका का समर्थन किया और कहा कि विनिर्माण पर रोक का मतलब इस तरह के वाहनों की बिक्री और पंजीकरण पर भी रोक लगाना है. इसलिए रियायत नहीं दी जानी चाहिए. केंद्र की ओर से उपस्थिति सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार ने अदालत को बताया कि बीएस-चार उत्सर्जन मानकों वाले वाहनों के लिए ईंधन अधिक साफ और स्वच्छ है और तेल रिफाइनरियों ने 2010 से इसके उत्पादन के लिए करीब 30,000 करोड़ रुपये खर्च कियें हैं.


news in hindi, hind news, all news hindi, latest news, latest hindi news, latest news updates in hindi, hindi samachar, hindi samachar paper, hindi samachar latest, today news in hindi, hindi news today live, hindi news live, top news today in hindi, hindi news papers, hindi newspapers, newspaper in hindi, hindi news papers online, all hindi news papers, hindi newspapers and news sites, aaj tak hindi news, online hindi news, breaking news in hindi, hindi breaking news, hindi news sites, hindi news website, web hindi news, taja news hindi, daily news hindi, recent news in hindi, recent hindi news,


इसे भी पढ़िएएक बेहतरीन हिंदी न्यूज पोर्टल कैसा हो?

न्यूज, लेख यहाँ ढूंढिए...

No comments:

Post a Comment

News by Topic...

States (2038) Politics (1904) India (1181) international (948) sports (788) entertainment (663) Controversy (563) economy (148) articles (120) religion (99) Social (50) career (43) mithilesh2020 (36) hindi news (29) top5 (23) narendra modi (10) images (8) others (8) Stories (2)

Follow by Email

News Archive

Contact Form

Name

Email *

Message *

Translate

WEBSITE BY...


क्या आप भी न्यूज, व्यूज या अन्य पोर्टल बनवाने के इच्छुक हैं? फोन करें

 मिथिलेश को: 99900 89080